Friday, December 2, 2011

फूल और कांटे

कुछ तस्वीरें जिम कॉर्बेट टाइगर रिजर्व से सिर्फ आपके लिये हर तस्वीर में मैंने अपने आपको जिया है


          आशा
                                          
   काँटों भरा जीवन

     अंगडाई

     मन और  सलवटें

         क्या क्या समेट लूँ .....

                                                 उलझन, बस और क्या
                                                        
 कब तक करूँ मैं इंतज़ार  
                                               
तुम्हारा साथ, साथ फूलों का 
                                 

 मेरी जमीं मेरा असमान

हम यूँ भी जी लेते हैं



हम तुम दोनों जब मिल जायेंगे एक नया संसार बसाएंगे

    क्या क्या न बनी मैं तुम्हारी प्यास बुझने को  ...

किसी का इंतज़ार मुझे भी है

                                                                 सुनहरा भविष्य



  उम्मीद का उजाला


  
बुजुर्गों की छत्र छाया

                                                                     
मुस्कान

ये जकडन नहीं प्यारा सा अहसास है

13 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

इससे अच्छी कविता आज तक नहीं पढ़ी, बड़ा ही सुन्दर प्रयोग।

Kailash C Sharma said...

बहुत ख़ूबसूरत अहसास सुंदर चित्रों के माध्यम से..

Atul Shrivastava said...

बेहतरीन... बेमिसाल... शानदार......
हर तस्‍वीर लाजवाब।

shashi purwar said...

wah ....aanand aa gaya . bahut hi anupam prastuti . har shabdo ko darsha rahe the chitra . pics. are very beautiful . love all ...:):):)::))

http://sapne-shashi.blogspot.com

veerubhai said...

हाँ ज़िंदा हैं ये तस्वीरें .बोलती बतियाती भी हैं एहसास जगाती सी अपने होने का .

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

बेहतरीन तस्वीरें!

ख़बरनामा said...

अत्यधिक प्रशंसनीय रचना.....
संक्रान्ति की हार्दिक शुभकामनाएं...

कुमार राधारमण said...

एक अच्छी तस्वीर में कैमरा ही नहीं,चित्त भी शामिल होता है।

Vikram Singh said...

बेहतरीन तस्वीरें
vikram7: महाशून्य से व्याह रचायें......

Maheshwari kaneri said...

बोलते चित्र..बहुत सुन्दर....

Rahul Singh said...

लाजवाब तस्‍वीरें.

Dr. O.P.Verma said...

चित्र बहुत कुछ कह जाते हैं।

prritiy----sneh said...

bahut khoobsurat dhang se tasveeron ko prastut kiya hai.

shubhkamnayen