Saturday, September 24, 2011

फिर छिड़ी रात बात फूलों की...

फिर छिड़ी रात बात फूलों की...


आज कुछ तस्वीरें पेश कर रही हूँ जो मैंने अपनी कुछ दिन पहले की नोर्थ ईस्ट की यात्रा में दार्जिलिंग, कलिम्पोंग (पश्चिम बंगाल), गंगतोक (सिक्किम) , शिलॉन्ग, चेरापूंजी (मेघालय), गुहाटी,  और शिवसागर (असम) से ली थी. 



















साथ में पेश है मख़दूम मोहिउद्दीन साहब कि बहुत खूबसूरत गज़ल. यह गज़ल "बाजार" फिल्म में तलत अज़ीज़ साहब और लता जी ने गायी थी और संगीत दिया था खैयाम साहब ने. शुक्रिया उन सभी गुणी जनो का.


फिर छिड़ी रात बात फूलों की
रात है या बारात फूलों की ।

फूल के हार, फूल के गजरे
शाम फूलों की रात फूलों की ।

आपका साथ, साथ फूलों का
आपकी बात, बात फूलों की ।

नज़रें मिलती हैं जाम मिलते हैं
मिल रही है हयात फूलों की ।

कौन देता है जान फूलों पर
कौन करता है बात फूलों की ।

वो शराफ़त तो दिल के साथ गई
लुट गई कायनात फूलों की ।

अब किसे है दमाग़े तोहमते इश्क़
कौन सुनता है बात फूलों की ।

मेरे दिल में सरूर-ए-सुबह बहार
तेरी आँखों में रात फूलों की ।

फूल खिलते रहेंगे दुनिया में
रोज़ निकलेगी बात फूलों की ।

ये महकती हुई ग़ज़ल 'मख़दूम'
जैसे सहरा में रात फूलों की ।

31 comments:

डॉ. मनोज मिश्र said...

मैं इन फूलों से ज्यादा फूल का चित्र लेने वाले व्यक्ति और कैमरे को बधाई देना चाहूँगा.

डॉ. मनोज मिश्र said...

@कुछ चित्र तो बेमिसाल हैं,आभार.

प्रवीण पाण्डेय said...

प्रकृति का सौन्दर्य।

संजय भास्कर said...

बड़ी खूबसूरती से कैद किया है .....बहत ही सुंदर तस्वीरे
फूलो को देखकर कर तो मूड एकदम फ्रेश हो जाता है
......धन्यवाद रचना दी सुंदर तस्वीरों के लिए

संजय भास्कर said...

इसे ही तो कहते है प्रकृति का सौन्दर्य ...बहुत ही खूबसूरत ।

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बहुत खूबसूरत फ़ूल ...सुन्दर फोटोग्राफी के लिए बधाई ... गज़ल अच्छी लगी ..

आपकी किचन का जायज़ा भी लिया ...

Kailash C Sharma said...

लाज़वाब चित्र...

pran sharma said...

PHOOLON AUR GAZAL KAA PURAANAA
NAATAA HAI . BAHUT KHOOB !

सियाना मस्कीनी said...

आग कहते हैं, औरत को,
भट्टी में बच्चा पका लो,
चाहे तो रोटियाँ पकवा लो,
चाहे तो अपने को जला लो,

sidheshwer said...

सुंन्दर सुमन
सुन्दर चयन
सुरीला गान
प्रमुदित प्राण!

प्रेम सरोवर said...

आपके पोस्ट पर आना सार्थक हुआ । तस्वीरें बेहद पसंद आयी । मेरे पोस्ट पर आकर मेरा भी मनोबल बढाएं । धन्यवाद ।

shilpa mehta said...

जितने सुन्दर फूल - उतनी सुन्दर ग़ज़ल |

इस फिल्म में शायद सुप्रिया जी और स्मिता जी थीं न?

Unlucky said...

very beautiful photos. Thanks for sharing These photos are amazing...must have been so much fun!

India a land of festivals A few snaps dont belong to India, there's much more to India than this...!!!.
Take a look here for India

Unlucky said...

बहोत ही खुबसूरत ग़ज़ल है, मैंने बहोत बार सुनी है यह ग़ज़ल, लेकिन आज इसे पढ़कर भी बहोत मज़ा आया.
जगजीत सिंह आधुनिक गजल गायन की अग्रणी है.एक ऐसा बेहतरीन कलाकार जिसने ग़ज़ल गायकी के सारे अंदाज़ बदल दिए ग़ज़ल को जन जन तक पहुचाया, ऐसा महान गायक हमारे बिच नहीं रहा,

उनके बारे में और अधिक पढ़ें : जगजीत सिंह

Vivek Jain said...

really beautiful,
विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

Human said...

बहुत अच्छे चित्र और बहुत अच्छी ग़ज़ल

मनोज कुमार said...

बड़ा ही मनभावन है।

अनुपमा पाठक said...

सुंदर!

Atul Shrivastava said...

खूबसूरत तस्‍वीरें.....
इन सारी जगहों पर पिछले साल मैं भी घूमने गया था और वहां की खूबसूरती को आपने कैद कर और मजा दे दिया।
खूबसूरत गजल।
आभार आपका।

कुमार राधारमण said...

कैमरे बहुतों के पास हैं,पर इतने सधे हाथ कहां!

Unlucky said...

I really enjoyed this site. It is always nice when you find something that is not only informative but entertaining. Greet!

In a Hindi saying, If people call you stupid, they will say, does not open your mouth and prove it. But several people who make extraordinary efforts to prove that he is stupid.Take a look here How True

Rewa said...

wah sundar phool....aur gazal bhi.....

Sadhana Vaid said...

WOW ! Extraordinary pictures. The ghazal is also very sweet. Congrats.

shashi purwar said...

badhai ho aapko .....bahut hi sunder anupam prastuti dil khush ko gaya in phoolo ki ghatao ko dekhkar .........anupam saundrya se ratn hai hamari prakrati . . aapka mere blog par swagat hai ..aapke aane se aaj maine aapke blog ki sunderta dekhi . aapko foolow karti hoon . shukriya .

महेन्द्र श्रीवास्तव said...

जी आपने तो श्रीनगर के चश्माशाही गार्डेन में पहुंचा दिया। क्या बात है..

फिर मेरी पसंदीदा गजल
फिर छिडी बात रात फूलों की...

महेन्द्र श्रीवास्तव said...

समय मिले तो मेरे एक नए ब्लाग "रोजनामचा" को देखें। कोशिश है कि रोज की एक बड़ी खबर जो कहीं अछूती रह जाती है, उससे आपको अवगत कराया जा सके।

http://dailyreportsonline.blogspot.com

प्रेम सरोवर said...

बहुत सुंदर प्रस्तुति । मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

avanti singh said...

रचना जी ,मैं क्या कहूँ, कुछ देर तो मैं खो ही गयी थी आप की इस सुंदर सी दुनिया में, हर तस्वीर का नाम बहुत ही सार्थक है ,और हर तस्वीर बेहद प्यारी है ,और आप का नजरिया भी बहुत अच्छा है दुनिया देखने का......बधाई स्वीकारें.........

SweetMelody said...

My greetings from France! After visiting your blog, I could not leave without putting a comment.
I congratulate you on your blog!
Maybe I would have the opportunity to welcome you on mine too!
My blog is in french, but on the right is the Google translator!
good day
cordially
Chris
http://sweetmelody87.blogspot.com/
HAPPY NEW YEAR TO YOU AND YOUR FAMILY
Chris
my sites
http://sweetmelody87.blogspot.com/

a small gift for you
http://nsm01.casimages.com/img/2009/03/04//090304073147505743259268.jpg

फ्रांस से मेरा अभिवादन! अपने ब्लॉग का दौरा करने के बाद, मैं एक टिप्पणी डालने के बिना नहीं छोड़ सकता.
मैं तुम्हें अपने ब्लॉग पर बधाई!
शायद मैं खान पर आप भी स्वागत का अवसर होगा!
मेरा ब्लॉग फ्रेंच में है, सही लक्ष्य पर गूगल अनुवादक है!
अच्छा दिन
हृदय से
क्रिस
http://sweetmelody87.blogspot.com/
खुश तुम और तुम्हारे परिवार के लिए नए साल
क्रिस
मेरे साइटों
http://sweetmelody87.blogspot.com/

तुम्हारे लिए एक छोटा सा उपहार
http://nsm01.casimages.com/img/2009/03/04//090304073147505743259268.jpg

Madhuresh said...

एकदम सी जीवंत तस्वीरें! बहुत सराहना!

Ramakant Singh said...

फूल खिलते रहेंगे दुनिया में
रोज़ निकलेगी बात फूलों की ।

beautiful love it so nice..and graceful